Place Of Wife At Puja: पूजा में बदला जाता है पत्नी के बैठने का स्थान, जानिए वजह

Place Of Wife At Puja : पूजा में पत्नी पति के दाहिनी ओर बैठती है और जब विधि से पूजा पूर्ण हो जाती है तब उसे पति के बाएं स्थान पर आने को कहा जाता है।

Place Of Wife At Puja : हिंदू धर्म में पूजा-पाठ को लेकर कई मान्यताएं हैं। जैसे यदि पति-पत्नी पूजा कर रहे हैं तो उन्हें जोड़े में पूजा करनी चाहिए। यदि दोनों गठबंधन जोड़कर पूजा करते हैं तो इसके ज्यादा फायदे हो सकते हैं। इसके अलावा उनकी पूजा में बैठने की स्थिति और दिशा का भी बहुत महत्व होता है। आईए जानते हैं की पूजा पाठ में वह मांगी होने के बाद भी पत्नी पति के दाएं तरफ क्यों बैठती है…

पूजा में बदल जाता है पत्नी का स्थान 

हिंदू धर्म में किसी भी अनुष्ठान में पत्नी अपने पति के बाईं तरफ ही बैठती है। यदि हम शास्त्रों की बात करते हैं तो पत्नी को पति की अर्धांगिनी और वामांगी माना जाता है। मान्यता है कि स्त्रियों की उत्पत्ति भगवान शिव के बाएं अंग से हुई है और माता पार्वती का स्थान भी उनके बाईं तरफ ही है। इसी वजह से शादी जैसी रस्मों में पत्नी हमेशा पति की बाईं तरफ ही बैठती है। लेकिन जब हम पूजा-पाठ में पत्नी के बैठने की बात करते हैं तो ज्योतिष उसे हमेशा पति के दाहिनी तरफ बैठने की सलाह देता है।

पूजा में दाएं तरफ क्यों बैठती है पत्नी?

दाहिना भाग हमेशा माता के स्थान को दर्शाता है। वाम भाग पत्नी का माना जाता है। पूजा में पत्नी पति के दाहिनी ओर बैठती है और जब विधि से पूजा पूर्ण हो जाती है तब उसे पति के बाएं स्थान पर आने को कहा जाता है। पूजा पाठ में बैठने की सही दिशा का ध्यान रखना जरूरी माना जाता है जिससे पूजा का पूर्ण फल मिल सके।

पूजा में मां के पद पर बैठती है पत्नी 

हिंदू शास्त्रों और ज्योतिष के अनुसार पूजा का पूर्ण फल प्राप्त करने और इसके शुभ लाभ के लिए यह नियम पालन करना अनिवार्य माना जाता है। धार्मिक कार्यों में पति-पत्नी के बैठने की दिशा का का ध्यान रखना जरूरी माना जाता है, जिससे जीवन में कई लाभ मिल सकें। ऐसा माना जाता है कि किसी को आशीर्वाद देते समय महिलाएं मां की भूमिका में आती हैं।

भक्ति का प्रतीक है दाहिना हिस्सा

ज्योतिष के अनुसार हमेशा से ही दाहिने हाथ को शक्ति और कर्तव्यों का प्रतीक माना जाता रहा है। इसी वजह से सभी काम दाहिने हाथ से ही करने की सलाह दी जाती है। इसके साथ ही दाहिने हिस्से को भक्ति का प्रतीक माना जाता है और पूजा-पाठ के दौरान इसी दिशा में बैठने की सलाह दी जाती है। वहीं बायां हिस्सा प्रेम का प्रतीक माना जाता है इसलिए पत्नी को शादी और इसकी रस्मों में बाईं ओर बैठाया जाता है।

काम इच्छाओं को रोकने के लिए बदला जाता है स्थान

ऐसी मान्यता है कि विवाह जैसे अनुष्ठान में दुल्हन हमेशा दूल्हे के बाएं हाथ की तरफ ही बैठती है क्योंकि बाईं तरफ ह्रदय का स्थान होता है और इस दिशा में बैठने से वो होने वाले पति के ह्रदय से जुड़ जाती है। वहीं पूजा-पाठ का संबंध ईश्वर से माना जाता है और इस दौरान पति-पत्नी का जुड़ाव ईश्वर भक्ति में लगाने के लिए ही उसे पति के दाहिनी तरफ बैठने की सलाह दी जाती है।

तमाम खबरों के लिए हमें Facebook पर लाइक करें Twitter , Kooapp और YouTube  पर फॉलो करें। Vidhan News पर विस्तार से पढ़ें ताजा-तरीन खबरे

- Advertisement -
- Advertisement -