Hemkund Sahib Yatra: उत्तराखंड में बर्फ से ढका रहता है सिखों का ये पवित्र स्थल, 20 मई से शुरू हो रही है यात्रा

Hemkund Sahib Yatra: उत्तराखंड के चमोली जिले में 20 मई से सिखों के पवित्र स्थल हेमकुंड साहिब की यात्रा शुरू होने वाली है।

Hemkund Sahib Yatra: उत्तराखंड के चमोली जिले में 20 मई से सिखों के पवित्र स्थल हेमकुंड साहिब की यात्रा शुरू होने वाली है। इसके लिए जिलाधिकारी चमोली ने 18 किमी के पूरे मार्ग का अपनी टीम के साथ निरीक्षण किया। जिन स्थानों पर जिलाधिकारी को खामियां मिली, उन्हें तत्काल व्यवस्थित कराने या व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। बता दें कि उत्तराखंड में वर्तमान में गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ की यात्रा चालू है।

रास्ते में इन सुविधाओं का किया निरीक्षण

चमोली के जिलाधिकारी खुराना ने शनिवार को गोविंद घाट गुरुद्वारे से निरीक्षण करना शुरू किया। इसके बाद वे अपनी टीम के साथ हेमकुंड साहिब पहुंचे। उन्होंने अपने दौरे के समय जिम्मेदार अधिकारियों को समय सीमा के अंदर सभी आवश्यक व्यवस्थाओं को पूरा करने के निर्देश भी दिए। जिलाधिकारी ने बिजली, पानी, शौचालय, साफ-सफाई और स्वास्थ्य सुविधाओं जैसी सभी व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया है।

इसके अलावा जिलाधिकारी ने यात्रा के मार्ग में रेलिंग, पार्किंग, संपर्क मार्ग, पुल, बारिश से बचने के लिए आश्रय, रास्ते में बेंच और किसी भी आपातकाल की स्थिति से निपटने के लिए हेलीपैड जैसी सुविधाओं की भी समीक्षा की।

इन स्थानों पर लगेंगे वाटर एटीएम

उन्होंने अधिकारियों से तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए मार्ग में हैक्टोमीटर पत्थर और संकेतक लगाने को भी कहा है। एक अधिकारी ने कहा कि उन्होंने जल संस्थान को घांघरिया में वाटर एटीएम, भुंदर में मेडिकल रिलीफ पोस्ट और पैसेंजर शेड व वाटर एटीएम उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया।

समुद्र तल से 4633 मीटर की है ऊंचाई

जानकारी के मुताबिक, हेमकुंड साहिब के यात्रा मार्ग पर अभी भी आठ फीट बर्फ जमी हुई है। लक्ष्मण मंदिर और हेमकुंड सरोवर जैसे स्थल भी पूरी तरह से बर्फ में ढके हुए हैं। बता दें कि हेमकुंड साहिब का शाब्दिक अर्थ “बर्फ की झील” है। यह स्थान समुद्र तल से 4633 मीटर की ऊंचाई के साथ दुनिया का सबसे ऊंचा गुरुद्वारा है।

बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करेंः-

- Advertisement -