International Jaguar Day: क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय जगुआर दिवस 

International Jaguar Day: यह अमेरिका की सबसे बड़ी जंगली बिल्ली है। इसकी खाल हल्की पीले रंग की होती है। जिसके ऊपर गुलाब की पंखुड़ियों के आकार में काले और गहरे भूरे रंग के चकत्ते बने होते हैं। ये चकत्ते कुछ छोटे तो कुछ बेहद बड़े होते है...

International Jaguar Day: अंतर्राष्ट्रीय जगुआर दिवस जगुआर के सामने बढ़ते खतरों और मेक्सिको से अर्जेंटीना तक इसके अस्तित्व को सुनिश्चित करने वाले महत्वपूर्ण संरक्षण प्रयासों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। जैव विविधता संरक्षण, सतत विकास के लिए एक महत्वपूर्ण प्रजाति और मध्य और दक्षिण अमेरिका की सदियों पुरानी सांस्कृतिक विरासत के प्रतीक के रूप में हर साल 29 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय जगुआर दिवस मनाया जाता है। यह अमेरिका की सबसे बड़ी जंगली बिल्ली है।

International Jaguar Day: 6.1 फीट लंबा और 158 किलोग्राम वजनी जगुआर दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी बिल्ली है। इसका फर अलग से पहचान में आ जाते है। इसकी खाल हल्की पीले रंग की होती है। जिसके ऊपर गुलाब की पंखुड़ियों के आकार में काले और गहरे भूरे रंग के चकत्ते बने होते हैं। ये चकत्ते कुछ छोटे तो कुछ बेहद बड़े होते है।

जगुआर सबसे बड़ा मांसाहारी और लैटिन अमेरिका की एकमात्र बड़ी बिल्ली है, जो मेक्सिको से अर्जेंटीना तक 18 देशों में पाई जाती है। इसका वैज्ञानिक नाम पैंथेरा ओंका है। जगुआर को अपने प्राकृतिक आवास क्षेत्र में 50% से अधिक की हानि का अनुभव हुआ है।

जगुआर को अक्सर तेंदुए समझ लिया जाता है, लेकिन उन्हें उनके शरीर पर मौजूद धब्बों से पहचाना जा सकता है। इस दिन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के प्रयासों के तहत जगुआर गलियारों और उनके आवासों के संरक्षण की आवश्यकता पर ध्यान आकर्षित करना है।

यह भी पढ़े:-  Salt water help in Acne : नमक से करें कील- मुहांसों का इलाज, भूल जाएंगे महंगे उत्पाद

मार्च 2018 में, जगुआर 2030 फोरम के लिए 14 रेंज देशों के प्रतिनिधि न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में एकत्र हुए। फोरम के परिणामस्वरूप जगुआर 2030 वक्तव्य आया, जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सहयोगात्मक जगुआर संरक्षण पहलों की एक विस्तृत श्रृंखला की रूपरेखा दी गई।

ब्राज़ील सहित कई रेंज देश भी राष्ट्रीय जगुआर दिवस मना रहे हैं, जिसने जगुआर को जैव विविधता के प्रतीक के रूप में मान्यता दी है। जगुआर दिवस मनाने का आह्वान करने वालों में वैश्विक जंगली बिल्ली संरक्षण संगठन पैंथेरा के सह-संस्थापक और पूर्व सीईओ और मुख्य वैज्ञानिक डॉ. एलन रैबिनोविट्ज़ शामिल थे।

तमाम खबरों के लिए हमें Facebook पर लाइक करें Twitter , Kooapp और YouTube  पर फॉलो करें।Vidhan News पर विस्तार से पढ़ें ताजा-तरीन खबरें।

 

- Advertisement -