स्कूलों में पढ़ाए जाने से पहले ही बच्चियों में शुरू हो रहा है पीरियड्स, एक्सपर्ट बोले- शुरू से ही इस बारे में बात करने की जरूरत

ऑस्ट्रेलिया में लड़कियों के पहली बार मासिक-धर्म की प्रक्रिया से गुजरने की औसत आयु लगभग 13 वर्ष है। लेकिन लगभग 12 प्रतिशत लड़कियों को आठ से 11 वर्ष की आयु के बीच पहली बार इसका सामना करना पड़ जाता है।

सार्वजनिक स्थानों पर मासिक-धर्म यानी पीरियड्स का प्रबंधन करना कभी-कभी चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन जरा कल्पना करें कि 8 साल की बच्ची को जब स्कूल में इससे निपटना पड़े तो क्या होगा? आपको क्लासेस जारी रहने के दौरान अपना ‘पैड’ बदलने की जरूरत पड़ सकती है और अपने दोस्तों को यह समझाना पड़ सकता है कि आप स्विमिंग कार्निवल में क्यों नहीं जा रही हैं। आपको यह डर सता सकता है कि आपकी ड्रेस से बाहर खून आ जाएगा क्योंकि स्कूलों के शौचालयों में ‘सैनिटरी पैड’ नहीं रखे होते हैं।

ऑस्ट्रेलिया में लड़कियों के पहली बार मासिक-धर्म की प्रक्रिया से गुजरने की औसत आयु लगभग 13 वर्ष है। लेकिन लगभग 12 प्रतिशत लड़कियों को आठ से 11 वर्ष की आयु के बीच पहली बार इसका सामना करना पड़ जाता है। एक्सपर्ट इसे ‘शुरूआती मासिक-धर्म’ कहते हैं। छात्राओं के एक हिस्से को उनके स्कूल के तीसरे वर्ष या दूसरे वर्ष में पहली बार मासिक-धर्म का सामना करना पड़ता है, लेकिन प्राथमिक स्कूलों की छात्राओं को आधिकारिक तौर पर पांचवें साल और छठे साल तक (जब वे 10 और 12 वर्ष के बीच की होती हैं) यौवनारंभ के बारे में नहीं पढ़ाया जाता है।

कब दूर होगी शर्मिंदगी?

मासिक-धर्म को लेकर शर्मिंदगी दुनिया के कई हिस्सों में सदियों से मौजूद है। एक्सपर्ट ने उल्लेख किया है कि कैसे लड़कियों को मासिक-धर्म के बारे में बात नहीं करने के लिए सिखाया जाता है और यदि वे ऐसा करती हैं, तो यह अक्सर (दर्द और परेशानी पर ध्यान देने के साथ) नकारात्मक रूप में होता है। वर्ष 2021 के एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 10 से 18 वर्ष की आयु की 659 ऑस्ट्रेलियाई छात्राओं में से 29 प्रतिशत इसे लेकर चिंतित थीं कि उन्हें मासिक-धर्म के कारण स्कूल में चिढ़ाया जाएगा।

मासिक-धर्म के दौरान यूनिवर्सिटी की 410 छात्राओं पर 2022 के ऑस्ट्रेलियाई सर्वे में पाया गया कि केवल 16.2 प्रतिशत ने विश्वविद्यालय में अपने मासिक-धर्म के प्रबंधन में पूरी तरह से आत्मविश्वास महसूस किया। इनमें से आधी से अधिक छात्राओं का मानना था कि समाज की यह सोच है कि मासिक-धर्म वर्जित हैं (और इसलिए, ऐसी चीज नहीं है जिस बारे में आप बात करते हैं)। अन्य देशों में ऐसे शैक्षणिक पाठ्यक्रमों के उदाहरण हैं जो मासिक-धर्म को अच्छा बताते हैं और यह सभी उम्र के लोगों के लिए सुलभ हैं।

एक स्वीडिश पाठ्यक्रम, किशोरियों को जानकारी मुहैया करता है, प्रथम मासिक-धर्म के बारे में परामर्श देता है और इस बारे में भी बताता है कि मासिक- धर्म के बारे में वयस्क लोग बच्चों से कैसे बात करें। पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया के सरकारी, कैथोलिक और निजी प्राथमिक विद्यालयों में 15 कर्मचारियों से बातचीत की। हमने कर्मचारियों से उन छात्राओं के बारे में उनकी जागरूकता के बारे में पूछा, जो समय से पहले मासिक-धर्म की प्रक्रिया से गुजरीं। यह भी पूछा कि उनकी छात्राओं को मासिक-धर्म के बारे में कैसे शिक्षित किया जाता है, और उनके लिए क्या सहायता उपलब्ध है।

कम उम्र में छात्राएं ‘अलग-थलग महसूस करती हैं’

कर्मचारियों ने बताया कि कैसे कम उम्र में मासिक-धर्म की प्रक्रिया से गुजरने वाली छात्राएं ‘अलग-थलग महसूस करती हैं’। एक शिक्षक ने कहा कि आप सात और आठ साल की बच्चियों को डराना नहीं चाहते हैं। अगर यह कम उम्र में शुरू हो रहा है, तो इस बारे में पहले बात करने की जरूरत है। लेकिन यह कठिन है क्योंकि बहुत सारी लड़कियां इसे समझने के लिए पर्याप्त रूप से परिपक्व नहीं हैं। एक अन्य शिक्षक ने कहा कि स्कूल के तीसरे वर्ष में मासिक-धर्म के बारे में बात करना ‘संभवतः कुछ ज़्यादा ही है’ आप बच्चियों को सदमा नहीं पहुंचाना चाहेंगे।

ये भी पढ़ें- Farmers Protest: किसानों का आज ‘दिल्ली चलो’ मार्च! राजधानी के इन रास्तों पर जानें से बचें, ट्रैफिक एडवाइजरी जारी

स्कूल कर्मचारी ने यह भी बताया कि कैसे लड़कों को मासिक-धर्म के बारे में जागरूकता कक्षाओं में अनिवार्य रूप से शामिल नहीं किया गया, और कैसे पुरुष शिक्षकों को इन मुद्दों पर बात करने का अनुभव नहीं हो सकता है। उन्होंने चिंता जताई कि लड़कों को मासिक धर्म के बारे में पढ़ाने से उन्हें लड़कियों को धमकाने या चिढ़ाने का मौका मिल सकता है।

तमाम खबरों के लिए हमें Facebook पर लाइक करें Twitter , Kooapp और YouTube  पर फॉलो करें। Vidhan News पर विस्तार से पढ़ें ताजा-तरीन खबरे।

- Advertisement -